Jack ma – कैसे एक टीचर बन गया चीन का अरबपति आदमी

Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi
कृपया इस पोस्ट को शेयर करें- Share it

Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi (जैक मा की जीवनी )

“असफलता की कहानी पढ़ो और उन कहानियों से सीखो” यह कहना है Alibaba के फाउंडर Jack ma का। Jack ma पहले एक इंग्लिश के टीचर थे। एक टीचर कैसे Business man बन गया। कैसे उन्होंने चीन के इ-कॉमर्स सेक्टर की दिशा बदल दी और चीन का सबसे आमिर आदमी बन गया। आइये पढ़ते है Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi.

Jack ma का प्रारम्भिक जीवन (Early Life of Jack Ma)

Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi
Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi

Jack ma का जन्म 1964 में चीनी प्रांत शिंजियांग के हंग्झो में हुआ था। उनका एक बड़ा भाई और एक छोटी बहन है। वह और उसके भाई-बहन ऐसे समय में बड़े हुए, जब कम्युनिस्ट चीन पश्चिम से अलग-थलग पड़ गया था।

उनके परिवार के पास ज्यादा पैसा नहीं था। उनके माता-पिता एक चीनी डांस पिंगटान परफ़ॉर्मर थे। वे इस डांस फॉर्म के माध्यम से कहानियां सुनाते थे। जैक मा का बचपन का नाम मा यून था।

बचपन से ही उनके अंदर इंग्लिश सिखने के लिए ललक थी।अंग्रेजी सीखने के लिए उन्होंने किसी शिक्षक का सहारा नहीं लिया। जब वे 13 साल के थे। वो प्रतिदिन एक होटल Hangzhou International Hotel साइकिल से जाया करते थे।

जहां विदेशी पर्यटक ठहरते थे। वो उनको चीन में धूमने में मदद करते और इसके बदले में वो उनसे इंग्लिश सीखते। यह सिलसिला 9 सालो तक चला।

इसी दौरान वह एक विदेशी लड़की से मिले जिसने उन्हे ‘Jack’ उपनाम दिया। इस दौरान Jack ने  केवल इंग्लिश ही नहीं सीखा बल्कि पश्चिमी देशो की तकनीक और स्टाइल को भी सीखा।

जैक मा की शिक्षा और संघर्ष के दिन ( Jack ma’s education and struggle days)

बचपन से ही Jack ma को असफलता का मुँह देखना पड़ा। Jack ma प्राथमिक विद्यालय परीक्षाओं में 2 बार फेल हुए। वे मिडिल स्कूल की परीक्षाओं के दौरान तीन बार असफल रहे।

अपने हाई स्कूल के बाद विश्वविद्यालयों में आवेदन करते समय Jack  तीन बार प्रवेश परीक्षा में विफल रहे। उसके बाद उन्होंने Hangzhou Dianzi University जो एक साधारण सा university था। इंग्लिश सब्जेट से एडमिशन लिया।

जब जैक मा अपना ग्रेजुएशन पूरा किया उस साल उनके यूनिवर्सिटी से 500 लोगो ने ग्रेजुएशन पूरा किया। उनमे से 499 लोगो को मिडिल स्कूल में पढ़ाने के लिए भेजा गया केवल जैक को यूनिवर्सिटी में पढ़ाने का मौका मिला।

यहाँ एक दिलचस्प बात यह है की उनको degree मिलने से पहले ही वो इंग्लिश टीचर बन गये थे। जैक मा के यूनिवर्सिटी के प्रेजिडेंट ने जैक को 5 साल तक वहां काम करने के लिए उनसे प्रॉमिस मांगी और जैक मा ने प्रॉमिस भी किया।

उन्हें वहां 10 डॉलर प्रति माह के हिसाब से सैलरी मिलती थी। सैलरी कम होने के वावजूद वे अपने प्रॉमिस को निभाते हुए, अंग्रेजी शिक्षक के रूप में  5 साल तक मेहनत के साथ काम किया। वे बेस्ट टीचर इन यूनिवर्सिटी भी चुने गए।

5 साल तक काम करने के बाद जैक मा ने यूनिवर्सिटी छोड़ दिया। इस दौरान Jack ने Harvard University 10 बार आवेदन किया, लेकिन उन्हें रिजक्शन ही हाथ लगा।

स्नातक डिग्री के दौरान Jack ने 30 जगह पर जॉब के लिए apply किया, लेकिन सब जगह से उन्हें रिजेक्शन मिला।

जब KFC चीन में आया तब 24 लोगो ने जॉब के लिए apply किया जिसमे से 23 लोग  सेलेक्ट हुए। केवल Jack केवल अकेले थे, जिनका सिलेक्शन नहीं हुआ।

उन्होंने Police force  में भी apply किया, लेकिन उन्हें यह कह कर मना कर दिया की आप Police के लायक नहीं हो।

जैक मा को पहली बार  इंटरनेट के बारे में पता चला

यह बात है उस समय की जब चीन में इंटरनेट के बारे बहुत कम जानकारी थी। Jack ने एक कंपनी खोली थी जो translation का काम करती थी। वो कंपनी के काम से एक बार अमेरिका गए।

वहाँ वे अपने दोस्त स्टुअर्ट से मिले। उनके दोस्त ने पहली बार Jack को internet के बारे में बताया। और बोला jack इसमें  तुम जो चाहते वो खोज सकते हो।

Jack काफी हैरान हुए और उन्होंने पहला शब्द Beer ‘बीयर’ अर्थात ‘भालु’ search किया, अब वे और भी हैरान हुए क्योकि उन्हें अमरीकी, जर्मनी और जपान बीयर के बारे में रिजल्ट दिखा लेकिन चीन के बारे कोई भी रिजल्ट नहीं आया।

उन्होंने चीन से संबंधित और भी जानकारी search किया, लेकिन चीन से संबंधित कोई रिजल्ट नहीं था। यह देखकर उन्हें इस चीन में इंटरनेट की सम्भवना दिखी।

Jack ma ने अपने दोस्तों से बात की क्यों न चीन के बारे में कुछ इंटरनेट पर बनाया जाए। Jack ने अपने दोस्तों से मिलकर एक पेज बनाई। जो देखने में उतनी अच्छी नहीं थी। इसके बावजूद इस वेबसाइट के launch होने के 5 घंटो के बाद ही लोगो का मेल आने लगे।

वे जैक के साथ मिलकर काम करना चाहते थे। जैक मा को यह काफी interesting लगा। Jack को लगा की internet के माधयम से काफी कुछ किया जा सकता है।

China Yellow Pages बनाया

1995 में jack ने अपनी पत्नी और दोस्तों से मिलकर एक और कंपनी “China Yellow Pages” बनाई। जैक मा और हे यीबिंग (एक कंप्यूटर शिक्षक) ने चाइना पेज के लिए पहला कार्यालय खोला। 10 मई, 1995 को, उन्होंने संयुक्त राज्य में डोमेन chinapages.com पंजीकृत किया।

तीन वर्षों के भीतर, कंपनी ने 5,000,000 चीनी युआन बनाए थे, जो उस समय 800,000 अमेरिकी डॉलर के बराबर था। जैक मा ने अमेरिका में दोस्तों की मदद से चीनी कंपनियों के लिए वेबसाइट बनाना भी शुरू किया।

जैक मा ने एक इंटरव्यू में खुलासा किया था कि उन्होंने वास्तव में कभी भी कोड की एक पंक्ति नहीं लिखी है और न ही एक ग्राहक को कुछ बेचा है। उन्होंने 33 साल की उम्र में पहली बार एक कंप्यूटर का अधिग्रहण किया था।

1998-1999 के बीच में Jack एक IT कंपनी “चाइना इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स सेंटर” में president के रूप में काम किया। 1999 में वहां से उन्होंने resign कर दिया।

Alibaba के बनने की कहानी (The story of Alibaba’s creation)

Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi
Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi

जैक मा ने अपनी खुद की ई-कॉमर्स कंपनी स्थापित करनी की सोची। 1999 में, जैक मा ने अपने अपार्टमेंट में 18 लोगों को इकट्ठा किया और अपने विज़न के बारे में उनसे दो घंटे तक बात की।

सभी ने अपना पैसा टेबल पर रखा, और हमें अलीबाबा शुरू करने के लिए $ 60,000 मिले। जैक मा एक वैश्विक(globel ) कंपनी बनाना चाहते  थे, इसलिए उन्होंने एक वैश्विक नाम चुना।

इस तरह jack ma ने 17 दोस्तों के साथ मिलकर 60000 डॉलर निवेश करके Alibaba की नींव अपने अपार्टमेंट में रखी।

Alibaba, Suppliers और Buyers के बीच एक कड़ी का काम करता है। शुरुवाती दौर में Alibaba को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

कोई उनपर विश्वास करने को तैयार नहीं था, लेकिन बाद में अक्टूबर 1999 तक, Alibaba ने गोल्डमैन सैक्स से $ 5 मिलियन और सॉफ़्टबैंक से 20 मिलियन डॉलर जुटाए, यह एक जापानी दूरसंचार कंपनी जो IT कंपनियों में भी निवेश करती है।

Alibaba लांच होने के 3 साल तक Alibaba को कोई भी रेवेन्यू नहीं हुआ। उस समय Alibaba के पास कोई online payment सिस्टम नहीं था। इस समस्या को दूर करने के लिए 2004 में Jack ma ने Alipay लांच किया।

Alipay एक थर्ड पार्टी मोबाइल और ऑनलाइन माध्यम है, जिसके द्वारा खरीदने वाले और बेचने वाले भुगतान करते है। आज 80 करोड़ लोग Alipay का उपयोग करते है।

आज, अलीबाबा समूह eBay और अमेज़ॅन की तुलना में अधिक सफल है। Alibaba Group Holding Ltd , वॉल-मार्ट स्टोर्स  को पार करने के बाद दुनिया का सबसे बड़ा खुदरा विक्रेता बन गया है।

Alibaba ,200 से अधिक देशों में परिचालन के साथ, दुनिया का सबसे बड़ा व्यापार-से-व्यापार  का मंच बन गया है। Alibaba.com में तीन मुख्य खंड हैं, एक अंग्रेजी भाषा पोर्टल, Alibaba.com, जो आयातकों और निर्यातकों के बीच बिक्री को जोड़ता है।

एक चीनी पोर्टल, 1688.com, जो चीन के देश के व्यापार व्यापार के लिए एक मंच के रूप में कार्य करता है। और एक खुदरा वेबसाइट, AliExpress.com, जो थोक मूल्यों पर खरीदारों को छोटी मात्रा में उत्पाद से जोड़ती है।आज Alibaba ग्रुप का टर्नओवर 39.9 बिलियन u.s डॉलर है।

हाल ही में जैक मा ने बताया की वे 10 सितम्बर 2019 अपना पद छोड़ देंगे। Mr Zhang उनकी जगह लेंगे। जैक मा अब अपना समय चीन में एजुकेशन के ऊपर देंगे।

उन्होंने कहा कि अलीबाबा का सीईओ बनने से बेहतर है पढ़ाना। वे यह काम ज्यादा बेहतर तरीके से कर सकते हैं। जल्द ही, वे शिक्षक के रूप में दोबारा दिखेंगे।

Alibaba नाम रखने की वजह (Reasons to Name Alibaba)

Jack सोच रहे थे, की company का नाम ऐसा होना चाहिए जिसे सब जानते हो। इसी तरह सोचते-सोचते “Alibaba” का नाम उनके दिमाग में आया।

एक दिन Jack सेनफ्रांसिस्को के एक कॉफी शॉप में बैठे हुए थे, तभी वहां एक वेटरेस आती है Jack वेटरेस से सवाल पूछते हैं, कि क्या तुम अलीबाबा को जानती हो? जवाब में वेटरेस कहती है वही ना – “खुल जा सिम सिम” ये सुनते ही जैक हां बोल देते हैं।

जैक इसके अलावा गली में जाकर 30 और लोगों से पूछते हैं, ”क्या आप लोग अली बाबा को जानते हैं। सबका जबाब “हां” था।  Jack ने सोचा Alibaba को सभी जानते है और दूसरे देश के लोग भी जानते है। इस तरह Jack ma ने अपनी कंपनी का नाम Alibaba रखा।

जैक मा की निजी जिंदगी (Personal life of Jack ma)

जैक मा , झांग यिंग (Zhang Ying) से ‘Hangzhou Teacher’s Institute’ में पढ़ते समय मिले थे। Gradution करने के बाद जब वे शिक्षक के रूप में काम करने लगे। उसके बाद 1980 में उन्होंने शादी कर लिया। उनका एक बेटी और एक बेटा भी है।

Jack ma के सफलता के 11 सूत्र (11 success sutra by Jack ma )

1. अगर आपको सफल बनना है तो दुसरो की गलती से सीखो। अगर आप दुसरो की गलती से सीखोगे, आपको उस गलती को कैसे सामना करना है वो पता चलेगा।

2. गुणवत्ता पर फोकस करे, न की संख्या पर, अगर आपके बिज़नेस का साइज बड़ा है, इसका मतलब यह नहीं है आप Profit  में हो और खुश हो।

3. सबसे अच्छा करने से बेहतर है, पहले स्टेप लेना Problem को Solve करने के लिए।

4. भविष्य को देखकर निर्णय ले।

5. अपने competitor से नफरत न करे। उनसे सीखे।

6. अवसर हमेशा चुनौतियों के बीच छिपा रहता है उन्हें ढूढ़ना आपका काम है।

7. अगर आपको विश्वास है की आप कर सकते हो तो आप कर सकते हो। चाहे कोई दूसरा आप पर विश्वास करता हो या न करता हो।

8.  हम अपने अंदर काम करने वाले employee को विश्वास, आदर और प्रोत्साहित कर के मोटीवेट कर सकते है।

9. जीवन एक journey है। ये जीवन मिला है आनंद के लिए, तो आप स्वस्थ रहे और खुश रहे।

10. लीडर वो होता है, जब कोई नहीं सोचता ऐसा हो सकता।वो सोचता है ऐसा हो सकता है।

11. आप अपने सपने को हमेशा जीवित रखे।

मै यह आशा करता हु, कि Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi आपको जीवन में आगे बढ़ने कि प्रेरणा देगी।

निवेदन- Alibaba founder Jack ma Biography in Hindi आपको कैसा लगा, कृपया अपने comments के माध्यम से हमें बताएं और अगर आपको यह लेख अच्छा लगा तो जरूर share करे।

जरूर पढ़े- Apple के संस्थापक स्टीव जॉब्स की जीवनी

जरूर पढ़े- Paytm फाउंडर विजय शेखर शर्मा के अरबपति बनने की कहानी


कृपया इस पोस्ट को शेयर करें- Share it

Author: Avinash Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *