डॉ विकास दिव्यकीर्ति का IAS से टीचर तक सफ़र। Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi

Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi

डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय, पत्नी, उम्र, बच्चे, जाति, (Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi, Wife, Age, Children’s, Caste)

अगर आप IAS की तैयारी कर रहे हो तो डॉ विकास दिव्यकीर्ति का नाम तो आपने सुना ही होगा। डॉ विकास Drishti IAS के नाम से कोचिंग नई दिल्ली में चलाते है। वे youtube पर भी काफी प्रचलित है। उनके वीडियो काफी रोचक होते है। वे हर चीज को बड़े ही सटीक और गहराई से लोगों को समझाते है। उन्होंने अपने पहले प्रयास में IAS का एग्जाम क्लियर कर लिया था। लेकिन वे अपनी नौकरी से संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने IAS की नौकरी छोड़ दिया और Drishti IAS की शुरुवात की। आइये जानते है क्यों उन्होंने IAS की नौकरी छोड़कर कोचिंग की शुरुआत की।

डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय (Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi)

  • नाम (Name)- डॉ विकास दिव्याकृति
  • शिक्षा (Education)- BA, MA, Mphill, PhD, LLB
  • पत्नी (Wife)- तरुण दिव्यकृति वर्मा
  • बच्चे (Childreen)- शाश्वत दिव्यकीर्ति
  • जाति(Caste)- ब्राह्मण (आर्य समाज)
  • कोचिंग का नाम – Drishti IAS (दिल्ली)

डॉ विकास दिव्यकीर्ति का बचपन (Childhood of Dr. Vikas Diyakirti) 

डॉ विकास का जन्म 26 दिसंबर 1973 को हरियाणा के एक गांव में हुआ था। वे तीन भाई है। उनके बड़े भाई अमेरिका में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। उनके बीच वाले भाई CBI में DIG रैंक पर है। उनके माता पिता भी हिंदी साहित्य के शिक्षक थे। जिसके कारण उनके घर मे शिक्षा पर काफी जोर दिया जाता था। उन्होंने अपना स्कूलिंग भिवानी हरियाणा से की। वे 12वी पूरा करके दिल्ली आ गए थे। वे अपने कॉलेज में पॉलटिक्स में काफी एक्टिव रहते थे। उनका और उनके पिता का मन था कि वे राजनीति में आगे कुछ काम करें।

जरूर पढ़ेखान सर की जीवनी और असली नाम

जरूर पढ़े- BEST 65: अब्दुल कलाम के अनमोल विचार

जरूर पढ़े- Best 101+ स्वामी विवेकानंद के विचार

डॉ विकास दिव्यकीर्ति की शिक्षा (Education of Dr. Vikas Diyakirti)

जब वे दिल्ली आये तो स्टेशन के पास एक कॉलेज था जाकिर हूसैन। उनका दोस्त भी वही पढ़ता था। उन्होंने भी अपना admission उसी कॉलेज में B.com(Honors) में ले लिया। कॉलेज टाइम में उनके दोस्त IAS की तैयारी कर रहे थे। उन्होंने सोचा क्यों न मैं भी IAS की तैयारी करूँ। फिर उन्होंने B.com को चेंज करके History (Horns) ले लिया।

वे अपने कॉलेज में Politics में भी एक्टिव रहते थे। वे अपने कॉलेज में काफी popular थे। वे कॉलेज में चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन कुछ लोगो ने उन्हें बताया की आप चुनाव मत लड़ो। इसमे जान का जोखिम है।

जब वे first year में थे तो उनके घर की आर्थिक स्थिति खराब हो गयी थी। वे किसी तरह first year की परीक्षा दिये। इस दौरान वे एक सेल्समेन का भी काम किया। वे कैलक्यूलेटर बेचा करते थे। वे कॉलेज में डिबेट किया करते थे। उससे भी उन्हें कुछ इनकम हो जाता था। उसके बाद वे और उनके बड़े भाई ने मिलकर एक प्रिंटिंग का बिज़नेस शुरू किया। और उसमें उन्हें सफलता भी मिली।

जब वे third year में आये तक उनकी आर्थिक स्थिति कुछ अच्छी हो गयी थीं। उन्होंने अपना Graduation 51% अंको से पास किया। अब उनके पिता ने बोला जो भी तुम्हारे सपने है उनको पूरा करो। इसके बाद उन्होंने जाकिर हूसैन कॉलेज से MA हिंदी साहित्य में एडमिशन ले लिया।

वे पहली बार अपने पढ़ाई को Seriously लिया। उन्होंने  MA अच्छे अंकों से पास किया। इस समय उन्होंने ने सोचा। उनके पास दो Options है । Civil Service जॉइन या प्रोफ़ेसर। इसी बीच उन्होंने JRF का exam पास किया।

डॉ विकास दिव्यकीर्ति आईएएस की नौकरी क्यों छोड़ी?

साल1996 में जब वे 22 साल के थे, तब पहिली बार IAS का फार्म भरा। शुरू मे उन्होंने History से IAS का फार्म भरा। इसी दौरान उनके हाथ एक sociology की बुक लगी। उनको sociology अच्छा सब्जेक्ट लगा । उन्होंने Decide किया कि वे दोबारा फार्म sociology से भरेंगे।

कुछ लोगों ने उन्हें मना भी किया लेकिन वे नही माने। उन्होंने दोबारा फॉर्म भर दिया। उस समय उनकी तैयारी उतनी अच्छी नही थी। उन्होंने उस साल exam ड्रॉप करने की सोची। लेकिन अपने पिता के जोर देने पर उन्होंने exam दे दिया।

उन्होंने पहले प्रयास में IAS का exam पास कर लिया। उनका IAS में 384 रैंक था। उस समय उन्होंने उनसे थोड़ा समय मांगा ताकि वे पढ़ाई कर सकें। उन्होंने एक बार फिर प्रयास किया लेकिन उनका Mains में सिलेक्शन नही हुआ। वे DU से PHD भी कर रहे थे। और उसके साथ-साथ IAS की तैयारी भी कर रहे थे।

तीसरी बार मे इंटरव्यू तक पहुँचे लेकिन उनका सेलेक्शन नही हुआ। उसके बाद वे अपने दोस्त के कहने पर हिंदी साहित्य पढ़ाना शुरू किया। इसी बीच उन्होंने जो IAS  Exam पहली बार में निकाला था। वहाँ से joining का date आ गया। वे जॉइन नही करना चाहते थे।

लेकिन घर वालों के कहने पर उन्होंने ज्वाइन कर लिया लेकिन कुछ दिन बाद वहां से उन्होंने इस्तीफा दे दिया। उन्होंने इसके बाद बच्चों को पढ़ाने की सोची और उन्होंने 20000 का उधार लेकर कुर्सी खरीदा और एक रूम किराए पर ली। नवंबर 1999 में दृष्टि कोचिंग की शुरुआत हुई।

उन्होंने बच्चों को हिंदी साहित्य में कोचिंग देना स्टार्ट किया। और बाद में उन्होंने दर्शनशास्त्र उसमें भी पढ़ाया। उनका IAS का लास्ट attempt बचा हुआ था तो उनके एक अच्छे  दोस्त ने बोला कि आप उसको दे दे।

क्योंकि उस समय वे IAS के बच्चों को कोचिंग पढ़ा रहे थे तो उन्होंने अपना Pre मुंबई से और Mains बेंगलुरु से दिया। वे interview तक पहुचे। लेकिन उनका selection नही हुआ। आज वे दृष्टि कोचिंग में बच्चों को पढ़ाते हैं।

Source: The Lallantop

Drishti IAS सोशल लिंक –

Website
Youtube
Facebook
Instagram
Telegram
Hindi Helpline no – +918750187501
English Helpline no – 8010440440

FAQ-

Q- डॉ विकास दिव्यकीर्ति के कितने बच्चे हैं?

A- उनका एक लड़का है जिसका नाम शाश्वत दिव्यकीर्ति है। 

Q-डॉ विकास दिव्यकीर्ति की पत्नी का नाम क्या है?

A- तरुण दिव्यकृति वर्मा

Q- विकास दिव्यकीर्ति की जाति क्या है?

A- ब्राह्मण 

Q- Drishti IAS  कोचिंग के मालिक कौन है?

A-डॉ विकास दिव्यकीर्ति

Q- डॉ विकास दिव्यकीर्ति का UPSC रैंक कितना है?

A- 384 

Q- विकास दिव्यकीर्ति की क्या रुचियां है।

A- उनको किताब पढ़ना और ड्राइविंग का शौक है।

Q- Drishti IAS की 1 साल की फीस कितनी है?

A- फीस: ₹1,10,000/- ₹ 1,00,000/- (GST सहित)। इस कोर्स से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिये 011-47532596 नंबर पर फोन करें।

निवेदन – डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय (Dr. Vikas Divyakirti Biography in Hindi) आपको कैसा लगा। comment के माध्यम से हमें बताये।

नोट- उपरोक्त सुचनाये इंटरनेट से ली गयी है। इसमें त्रुटि हो सकती है। अगर आपका कोई सुझाव है तो आप comment के माध्यम से दे सकते है।

Author: Avinash Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *