MBA चाय वाले की संघर्ष की कहानी। MBA Chai Wala Story in Hindi

MBA Chai wala Story in Hindi

MBA चाय वाले की संघर्ष की कहानी (MBA Chai wala Story in Hindi) MBA चायवाला के नाम से मशहूर “प्रफुल बिल्लौर” को आज कौन नहीं जानता है। वे एक ऐसे young entrepreneur है जिन्होंने अपने लर्निंग स्किल और मेहनत के बल पर चाय के बिज़नेस को सफलता की ऊचाई पर ले जा रहे है। आज वे youth के लिए प्रेरणा स्रोत है। जो अपने वीडियो से youth को अपने बल पर कुछ करने के लिए प्रेरित करते रहते है।

हम केवल सफलता को देखते है उसके पीछे के संघर्ष को नहीं देखते है। हर कोई सफल होना चाहता है लेकिन संघर्ष करना नहीं चाहता है। हर सफलता के पीछे संघर्ष छिपा रहता है। कैसे ढेले पर चाय बेचने वाला लड़का MBA चायवाला बन गया। जिनके बिज़नेस का turnover 4 crores है। आइये पढ़ते है MBA चाय वाले की संघर्ष की कहानी (MBA Chai wala Story in Hindi)

MBA चाय वाले की संघर्ष की कहानी (MBA Chai wala Story in Hindi) – Age, DOB And More..

  1. Question                         :    Answer
  2. Name/नाम                   : प्रफुल्ल बिल्लोरे
  3. Nickname /निक नेम         : MBA चायवाला
  4. DOB/जन्म तिथि           : 14 जनवरी 1996 (मध्यप्रदेश, इंदौर)
  5. Age/उम्र                          : 25 साल (2021 के हिसाब से)
  6. Profession/पेशा                : चाय का व्यापार
  7. Parents/माता-पिता        : सोहन बिल्लोरे
  8. Net-Worth/नेट-वर्थ       : 4 से 5 करोड़ रुपए (2021)
  9. Education Qualification   : B.Com And MBA Dropout
  10. MBA Chai Wala Full Form : Mr. Billore Ahmedabad Chai Wala
  11. Current City/मौजूदा शहर   : अहमदाबाद, गुजरात
  12. Nationality/राष्ट्रीयता      : भारतीय

प्रफुल बिल्लौर का जन्म और बचपन (‎Prafull Billore Birth and childhood)

Prafull Billore family
Prafull Billore family
Source Image- Prafull Billore twitter

इनका जन्म 14 जनवरी 1996 को मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में हुआ था। एक मिडिल क्लास फैमिली में जन्मे प्रफुल्ल बिल्लौर उर्फ एमबीए चायवाला के पिता चाहते थे कि उनका बेटा आगे चलकर एक अच्छी खासी नौकरी करें। प्रफुल्ल बिल्लोरे ने अपने पिता के कहने पर कैट CAT तथा और भी परीक्षा की की तैयारी करने में लग गए।

वे entrance crack करने की लिए घंटों तक कड़ी मेहनत करते। इसके बावजूद 2 बार कैट की परीक्षा में असफल हो। उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करे? उनको प्राइवेट जॉब नहीं करना था तो वे पुरे भारत में घूमने का प्लान बनाया।वे हर शहर गए कम पैसे में। इसी दौरान प्रफुल्ल ने बंगलुरू में अपने दोस्त के यहां लगभग 17 दिन गुजारे। घूमने के बाद उन्हें एक चीज समझ में आ गयी कि उन्हें अब MBA नहीं करना कुछ और करना है।

जरूर पढ़े- एलन मस्क का जीवन परिचय -Elon Musk Biography in Hindi

McDonald में बतौर डिलीवरी बॉय काम किया (worked as a Delivery Boy)

उसके बाद वे अहमदाबाद में ही मैकडॉनल्ड्स में बतौर डिलीवरी बॉय के पोस्ट पर प्रति घण्टे 37 रुपए पर काम करने लगे।करीब 5 महीने वेटर की नौकरी की। उसके बाद वे बर्गर बनाने का काम करने लगे। उसके बाद वे कस्टमर का आर्डर लेने का काम करने लगे।

यहाँ पर काम करके उन्हें काफ़ी कुछ सीखने को मिला। क्योंकि इस तरह की नौकरी में हर दिन हर वक्त अलग-अलग लोगों से मिलते थे। जो नॉलेज उन्हें MBA करने के बाद मिलता। उन्हें वह प्रैक्टिकल knowledge काम कर के मिल रहा था।

ठेले पर चाय बेचना शुरू किया (started selling tea on handcart)

McDonald में काम करते -करते वो सोचने लग गए कि कब तक वो यह काम करते रहेंगे। फिर कुछ अपना काम करने की सोचने लगे। इसके पहले वे काफ़ी जगह  पर घूमने का experience था।उनको लगा क्या चीज है जो हिन्दुस्तान को कनेक्ट करता है। चाहें ख़ुशी की बात हो या गम की बात हो या दोस्तों से बात करनी हो जिसे लोग सुबह शाम डेली पीते है। वह है चाय।

वहां से उनको चाय बेचने का आईडिया आया। उसके बाद उन्होंने decide किया कि वे ढेला पर चाय बेचेंगे। वे इस बात विश्वास करते है Dream Big, Start Small, Act Now.

लेकिन वे एकअच्छे फॅमिली से नाता रखते थे। पढ़े लिखे थे, अच्छी अंगेजी बोलते थे। यह डिसिशन इतना आसान नहीं था। उनको चाय की ठेला शुरू करने में 50 दिन लग गए। इसके लिए उन्होंने अपने पापा से झूठ  बोलकर की उनको कोई कोर्स करना है पैसे लिए।

इसके पहले उन्हें ना चाय बनानी आती थी, ना बर्तन माजने आता था, ना झाड़ू लगाने आता था। उसके बावजूद उन्होंने चाय का ठेला शुरू किया।शुरुवात दिनों में उन्हें काफ़ी कठिनाईयो का सामना करना पड़ा। उनके टी स्टॉल बिजनेस शुरू करने के पहले दिन कुल ₹150 की सेल हुई।

शुरुआती दो-तीन महीने तक उनका बिजनेस इसी तरह से उतार-चढ़ाव से भरा रहा। कभी ₹200 तो कभी ₹300 इसी तरह की सेल होती रहती थी। वे  AC कार में बैठे लोगों की विंडो से अंग्रेजी में बात करके उन से अपनी चाय का टेस्ट लेने के लिए बोलते थे।

लोगों को सुनने में अजीब लगता था, कि एक चाय वाला उनसे इंग्लिश में बात कर रहा है। और लोग उनसे उनकी चाय बेचने की स्टोरी के बारे में जानने को लेकर उत्सुक रहते थे।

MBA चायवाले की शुरुवात (Beginning of MBA Chaiwala)

धीरे-धीरे सभी लोगों को पता चलने लगा कि एक चाय बेचने वाला लड़का इंग्लिश बोलता है। लोग उत्सुकता से उसके स्टोरी सुनने के लिए वहां पहुंचते थे।और इसी तरह धीरे-धीरे प्रफुल्ल का टी स्टॉल पूरे शहर में चर्चा का विषय बन गया था। उन्होंने अपने ठेले का नाम “मिस्टर बिल्लोरे अहमदाबाद चायवाला” रख लिया यानी कि MBA चायवाला रख लिया।

लोग इस नाम का भी मज़ाक उड़ाते थे। लेकिन वे हिम्मत नहीं हारे वे इस काम को 2 साल तक करते रहे। कुछ दिन बाद वे एक जगह लेकर कैफ़े बनाया।उन्होंने कई event organize किये जैसे कि valentine day पर जो सिंगल थे उनको फ्री में चाय दी। केरला बाढ़ आयी तो उन्होंने 2 -3 लाख रूपया इकठ्ठा करके डोनेट किया।

इसके साथ-साथ कई छोटे छोटे  इवेंट में फ्री चाय प्रोवाइड करते थे। धीरे -धीरे वे famous होने लगे। वे कॉलेजो में जाकर लेक्चर देने लगे। अपना काम करते रहे प्रोसेस पर फोकस किया रिजल्ट की चिंता नहीं की।वर्तमान में, MBA चाय वाला व्यवसाय के फ्रैंचाइज़ मॉडल पर चलता है। अब तक, भारत के प्रमुख शहरों में इसका पहले से ही एक आउटलेट है, और जल्द ही कई और आउटलेट आने वाले हैं। 2022 तक MBA चाय वाला के 50 स्टोर है।

प्रफुल्ल बिलौरे की इनकम (Prafulla billoure income)

MBA चायवाला के बारे में इतना जानने के बाद आपके दिमाग में एक सवाल आ रहा होगा कि प्रफुल्ल का इनकम कितना होगा। अपनी जानकारी के अनुसार बताएं तो एमबीए चाय वाले उर्फ प्रफुल्ल का बिजनेस टर्नओवर लगभग तीन से चार करोड़ के बीच है।

बता दें महज आठ हजार रु से चाय के ढेले से, कारोबार शुरू करने वाले प्रफुल्ल आज करोड़ो का व्यवसाय चला रहे हैं। आज देश के कई शहरों में एमबीए चाय  के आउटलेट खुल रहे है। इसके साथ-साथ उनका बिज़नेस भी ग्रो कर रहा है।

MBA चायवाला के सफलता के मंत्र (Success Mantra of MBA Chaiwala)

उन्होंने एक इंटरव्यू में लाइफ में सक्सेस होने के तीन गुरु मंत्र बताएं हैं। उनके ये तीन पॉइंट बेहद ख़ास है।  हम सभी को इसे जीवन में अपनाना चाहिए।

1. जीवन आपका हैं इसे सफल आपको ही बनाना हैं, इसका ठेका पड़ोसी लेकर नहीं बैठेगा। न पड़ोसी को उससे कोई फर्क पड़ता है। इसलिए लोगो को इम्प्रेस या डिप्रेस करने के लिए काम मत कीजिये, सेल्फिस बनिये और अपने लिए काम कीजिए।

2. आप दुनिया को बेवकूफ बना सकते है पर खुद को कब तक बनाओगे।

3. रिलज्ट ओरिएंटेड होने की बजाय प्रोसेस ओरएटेड रहो और सफलता पाने के लिए धैर्य रखना पड़ता हैं।

4. कामयाबी आपको 2 माह में मिल सकती हैं मगर वो लौट सकती है। इसलिए ठोक बजाकर काम किया तो सालो बाद भी काम बंद होने पर फिर से चालु कर सकते हैं।

MBA चायवाला अकादमी (MBA Chaiwala Academy)

जहां आप बहुत कुछ सिख सकते हो। इसके माध्यम से वे शिक्षा में क्रांतिकारी परिवर्तन लाना चाहते है।

MBA चायवाला फाउंडेशन

इसके माध्यम से वे heart और cancer पेशेंट के लिए 1 लाख से लेकर 10 लाख तक फण्ड रेज करते है।

Prafull Billore Social Media Accounts & Channels

Instagram: Check Now

Facebook: Check Now

Twitter: Check Now

YouTube: Check Now

FAQ about MBA chaiwala

Q- MBA चायवाला franchise cost कितना है।

A- इनका franchise cost  10 लाख है (साल 2022)

Q- MBA चायवाला का turnover कितना है।

A- 4-5 करोड़ रूपया (साल 2022 )

जरूर पढ़े- ओलंपिक विजेता नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय

Author: Avinash Singh

1 thought on “MBA चाय वाले की संघर्ष की कहानी। MBA Chai Wala Story in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.